”टेनिस सनसनी” बन कर सानिया मिर्जा ने पाई शोहरत…

Spread the love

टेनिस में भारत का नाम दुनिया में रोशन करने वाली भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा डबल्स में पूर्व नंबर एक खिलाड़ी रह चुकी हैं। फिलहाल वो डबल्स में वर्ल्ड की नंबर वन टेनिस खिलाड़ी है। हाल में मां बनी सानिया अपने दमदार खेल के अलावा निजी जिंदगी को लेकर भी खूब सुर्खियों में रही। वह अब तक चारों ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट में खिताबी सफलता हासिल कर चुकी हैं। सानिया का जन्‍म 15 नवंबर 1986 को मुंबई में हुआ था। बाद में उनका परिवार हैदराबाद आ गया था।

”टेनिस सनसनी” के नाम से मशहूर सानिया के खेल और उनकी शादी को लेकर काफी विवाद भी होता रहा है। हाल में मां बनी सानिया अपने दमदार खेल के अलावा निजी जिंदगी को लेकर भी खूब सुर्खियों में रही। टेनिस कोर्ट पर स्कर्ट पहन कर खेलने पर कट्टरपंथियों के विरोध और पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक से निकाह का मुद्दा कभी बहुत उछाला गया था। आज हम लाए हैं सानिया मिर्जा से जुड़ी कुछ जानकारियां।
हैदराबाद में अपनी स्‍कूलिंग पूरी क‍रने के बाद उन्‍होंने सेंट मैरी कॉलेज से ग्रेजुएशन किया। इसके बाद चेन्‍न्‍ई की एमजीआर एजुकेशनल एंड रिसर्च यूनिवर्सिटी से ‘डॉक्‍टर ऑफ लेटर’ की ऑनर्स डिग्री ली।
सानिया ने निजाम क्लब हैदराबाद में छ्ह साल की उम्र से टेनिस खेलना शुरू किया था। पेशेवर टेनिस की दुनिया में उन्होंने 2003 में कदम रखा था। जूनियर खिलाड़ी के तौर पर सानिया मिर्जा 10 सिंगल्स और 13 डबल खिताब जीत चुकी हैं।

उनके पिता इमरान मिर्ज़ा एक खेल संवाददाता थे। उनके पास इतने पैसे नहीं थे कि वह सानिया का प्रोफेशनल ट्रेनिंग करवा सकें। इसके लिए उन्होंने कुछ बड़े व्यापारिक समुदायों से स्पांसरशिप ली।

सानिया की बहन उनसे आठ साल छोटी हैं। उस वक्त एक पेरेंट सानिया के साथ खेल के लिए ट्रैवल करता था, तो दूसरा पेरेंट छोटी बेटी के साथ घर में रहता था। मिर्जा परिवार 20-30 घंटे की दूरी कार से ट्रैवल करता था क्योंकि पूरी फैमिली के लिए यह सस्ता पड़ता था।

सानिया मिर्जा अभी तक की भारत की सबसे ज्यादा रैंक पाने वाली महिला टेनिस खिलाड़ी हैं और भारत के सबसे ज्यादा मेहनताना पाने वाली महिला खिलाड़ी भी हैं।

2006 में सानिया मिर्जा पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी जिन्होंने ग्रैंड स्लेम में प्रवेश किया था। 2015 में सानिया मिर्जा और मार्टिना हिंगिस की जोड़ी ने विम्बलडन ग्रैंड स्लेम डबल्स का खिताब जीता था। इसके बाद उन्होंने डबल्स में यूएस ओपन और ऑस्ट्रेलियाई ओपन का खिताब भी जीता था।

भारत सरकार सानिया मिर्जा को 2006 में पद्मश्री, 2016 में पद्मभूषण और 2015 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार दे चुकी है। वहीं 2004 में इन्हे लॉन टेनिस में अर्जुन पुरस्कार से नवाजा गया था।

वर्ष 2007 में महिला सिंगल में उनकी रैंकिंग विश्व स्तर पर 27वें पायदान पर पहुंच गई थी। पर कलाई में चोट आ जाने की वजह से उन्हें सिंगल्स का सफर छोड़ना पड़ा। इसके बाद उन्‍होंने डबल्स पर अपना पूरा फोकस डाल दिया।

लंबे समय से टेनिस स्टार सानिया मिर्जा की आने वाली बायोपिक चर्चा में है। सानिया पहले भी कई विज्ञापनों में नजर आ चुकी हैं। 2005 मेंटाइम पत्रिका ने सानिया को एशिया के 50 नायकों में नामित किया था।

वर्तमान में, वे नवगठित भारतीय राज्यतेलंगाना की ‘ब्रांड एंबेसडर’ हैं। ब्रांड एम्बेसडर बनाए जाने पर तेलंगाना विधानसभा में भाजपा नेता के लक्ष्मण ने उन्हे ‘पाकिस्तान की बहू’ क़रार दिया था और उन्हें यह सम्मान दिए जाने पर सवाल उठाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *