वार्षिक स्टार्टअप इंडिया उद्यम पूंजी शिखर सम्मेलन 2018 का गोवा में आयोजन…

Spread the love

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय का औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) और गोवा सरकार 7 दिसंबर, 2018 को गोवा में वार्षिक स्टार्टअप इंडिया उद्यम पूंजी शिखर सम्मेलन 2018 की मेजबानी कर रहे हैं।

 

इस शिखर सम्मेलन का विषय ‘भारत में नवाचार के लिए वैश्विक पूंजी जुटाना है’।  इस आयोजन में पूरे विश्‍व से पूंजी को आकर्षित करने के लिए भारतीय स्टार्टअप के अवसरों का प्रदर्शन किया जाएगा। इस शिखर सम्‍मेलन का उद्देश्‍य देश में अधिक से अधिक वैश्विक पूंजी को आकर्षित करना है। इससे देश में स्टार्टअप माहौल को और प्रोत्‍साहित करने के तरीकों के लिए सरकार और अनुभवी उद्यम पूंजी निधि प्रबंधकों के बीच वार्ता करने में मदद मिलेगी। इस सम्‍मेलन में अति आधुनिक प्रौद्योगिकियों के माध्यम से मुद्रीकृत और अधिक लाभ सृजन की क्षमता वाले भारत के व्‍यापक और विविधतापूर्ण बाजार पर ध्‍यान केंद्रित रहेगा। इसे निवेश के अनुकूल विनियमों से भी सहायता मिलेगी। इस शिखर सम्‍मेलन के मुख्‍य उद्देश्‍य भारत में अवसरों का प्रदर्शन करना, भारतीय स्‍टार्टअप के लिए पूंजीगत प्रवाह को बढ़ाना और कारोबार करने के कार्य को और आसान बनाना है।

 

शिखर सम्मेलन में 150 से अधिक प्रतिभागियों के शामिल होने की उम्‍मीद हैं। इससे सरकारी अधिकारियों, घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्टार्टअप, वैश्विक निधि प्रबंधकों और भारत के बड़े उद्यमी समुदाय को एक मंच पर लाना है। इस शिखर सम्‍मेलन में अमेरिका, चीन, जापान, हांगकांग और सिंगापुर जैसे देशों से 100 से लगभग निधियां प्राप्‍त हाने की उम्मीद है।

 

भारत में दुनिया का सबसे बड़ा तीसरा स्टार्टअप आधार है और यहां 14,000 से अधिक मान्यता प्राप्त स्टार्टअप है। 8,200 से अधिक स्टार्टअप को डीआईपीपी ने ही अकेले 2018 में मान्यता प्राप्त दी थी। इससे इस वर्ष 89,000 से अधिक नई नौकरियों का सृजन हुआ। इस कारण मान्यता प्राप्त स्टार्टअप का रोजगार सृजन का योगदान 1,41,775 हो गया।

 

गोवा सरकार अपने राज्‍य में एक मजबूत स्टार्टअप माहौल का निर्माण करने पर ध्‍यान केंद्रित कर रही है। सरकार का उद्देश्य अपने राज्‍य को भारत में एक सबसे पसंदीदा स्टार्ट-अप गंतव्य बनाना और यह सुनिश्चित करना है कि गोवा 2025 तक एशिया के शीर्ष 25 स्टार्ट-अप गंतव्यों में शामिल हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *